Home » उच्च शिक्षा के साथ सही समय पर रोजगार ही उज्जवल भविष्य की प्रासंगिकता : डाॅ. बत्रा।

उच्च शिक्षा के साथ सही समय पर रोजगार ही उज्जवल भविष्य की प्रासंगिकता : डाॅ. बत्रा।

by admin

उच्च शिक्षा के साथ सही समय पर रोजगार ही उज्जवल भविष्य की प्रासंगिकता : डाॅ. बत्रा….

हरिद्वार: महाविद्यालय में आज महाविद्यालय करियर काउंसिलिंग प्रकोष्ठ एवं एच.सी.एल. टैक बी के संयुक्त तत्वाधान में अर्ली करियर पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रूप में एच.सी.एल. की कलस्टर लीडर मौ. हैरिस ने छात्र-छात्राओं को उत्तराखण्ड सरकार तथा एच.सी.एल. टैक बी के बीच रोजगार शिक्षा के लिए हुए एमओयू के विषय में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने छात्रों के लिए बिट्स पिलानी, एमेटी विश्वविद्यालय तथा देश के अन्य विश्वविद्यालयों में उच्च शिक्षा तथा उसके साथ ही साथ रोजगार के अवसर की जानकारी दी।

काॅलेज के प्राचार्य डाॅ. सुनील कुमार बत्रा ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि सरकार तथा निजी क्षेत्रों द्वारा किये जा रहे प्रयासों से न केवल छात्रों को उच्च शिक्षा ग्रहण करने के अच्छे अवसर मिलेंगे अपितु रोजगार प्राप्ति के भी अधिक अवसरों की प्राप्ति होगी। उन्होंने बताया कि काॅलेज प्रबन्धन शिक्षा एवं उद्योग क्षेत्र के मध्य रिक्तता को भरने का भरसक प्रयास कर रहा है तथा इसी को ध्यान में रखकर औद्योगिक क्षेत्र के प्रतिनिधित्व को समय समय पर छात्र-छात्राओं से रू-ब-रू कराया जा रहा है ताकि उद्योगों की आवश्यकता के अनुरूप छात्र-छात्राओं में कौशल विकास किया जा सके।

छात्र अधिष्ठाता डाॅ. संजय कुमार माहेश्वरी ने एच.सी.एल. द्वारा करे जा रहे प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि उत्तराखण्ड के छात्रों के हितों को ध्यान में रखते हुए एचसीएल को अपने इस कार्यक्रम को विस्तार देते हुए प्रदेश के विश्वविद्यालयों को भी इसमें शामिल करें जिससे अधिक से अधिक छात्र इस योजना से लाभान्वित हा सकें।

कार्यक्रम के मुख्य संयोजक तथा करियर काउसिंलिग सेल के अध्यक्ष विनय थपलियाल ने बताया कि भारत जैसे विकासशील देश में अत्यन्त अल्प मात्रा में ही छात्रवृत्ति पर व्यय किया जाता है। उन्होंने कहा कि भारत को कुल सकल घरेलू उत्पाद का न्यूनतम 06 प्रतिशत शिक्षा पर खर्च करना चाहिए।

वर्तमान में यह खर्च अत्यन्त कम है। विकसित देश अपने देश में न्यूनतम 07 से 10 प्रतिशत आय का खर्च शिक्षा पर कर रहे हैं। भारत यदि विकसित राष्ट्रों की श्रेणी में आना चाहता है तो उसे शिक्षा पर अपना खर्च बढ़ाना होगा। श्री थपलियाल ने इसी क्रम में एचसीएल के कार्यक्रम की सराहना करते हुए कहा कि यह उस रिक्त स्थान को भरने में सक्षम होगा जोकि सरकार की विभिन्न बाध्यताओं के कारण उत्पन्न हुआ है।

इस अवसर पर करियर काउंसिलिंग समिति के सदस्य डाॅ. विजय शर्मा, दिव्याश शर्मा, डाॅ. मिनाक्षी शर्मा, अंकित अग्रवाल, डाॅ. विनीता चौहान, डाॅ. कोमल, डाॅ. पदमावती तनेजा, डाॅ. पूर्णिमा सुन्दरियाल, दीपिका आनन्द, नेहा गुप्ता सहित काॅलेज के छात्र खुशी, महक, अर्शिका, गौरव, विशाल, सत्यम, हर्ष, अपराजिता, अमूल्य सक्सेना, पूजा, अमित कुमार सहित अनेक छात्र-छात्रा उपस्थित थे।

related posts

Leave a Comment

Share